Culture

Bishnoi society wildlife love and tree environment बिश्नोई समाज का वन्य जीव प्रेम एवं पेड़ पर्यावरण

बिश्नोई समाज का वन्य जीव प्रेम एवं पेड़ पर्यावरण / Bishnoi society wildlife love and tree environment

हिंदुओं में विश्नोई एक ऐसा पंथ/वर्ण है जिसमें देहावसान के बाद पार्थिव देह को गढ़ा खोद के दफनाया जाता है …. In fact, the term Bishnoi comes from this number – bish means 20 and noi means 9. As he shared his beliefs, Jambheshwar gained many followers. Some of his behavioral guidelines prohibited both hunting animals and cutting trees. His followers believed in having compassion for plants, animals, and other humans.

बिश्नोई समाज का वन्य जीव प्रेम एवं पेड़ पर्यावरण Bishnoi society wildlife love and tree environment



वजह बस इतनी सी है कि पार्थिव देह को जलाने में पेड़ काटकर लकड़ियों का उपयोग होता है …. जो विश्नोई समाज के लिए नागवार है …. क्योंकि ये पर्यावरण प्रकृति एवं वन्य जीव प्रेमी कौम है ….

मादा हिरण यदि मर जाये तो उसके शावकों को विश्नोई समाज की महिलाएं अपना स्तनपान करवाती है …. अपने बच्चे की तरह पालती है ….

इंडियन वाइल्ड लाइफ एक्ट के अनुसार दुर्लभ वन्य जीवों को पकड़ना/बांधना गैर कानूनी है …. किंतु विश्नोई समाज के आंगन में हिरणों के बच्चे ऐसे खेलते हैं जैसे कोई परिवार/घर मे पैदा हुआ बच्चा खेलता है ….Their care for animals is also clear through gestures which could seem weird in Western society . Probably one such gesture is breast feeding a fawn in order to save its life. The love of Bishnois for nature has proven to ecologists that sometimes human presence and intervention can benefit nature.

200 वर्ष पूर्व मारवाड़ (जोधपुर) के महाराजा ने अपने राज्य में पेड़ काटने का आदेश जारी किया …. शाही हलकारो कामगारों ने आदेश का पालन करते हुए पेड़ काटने शुरू किए …. पेड़ काटते हुए वो एक दिन विश्नोईयों के एक गांव में पहुंचे एवं अमृता विश्नोई के खेत से खेजड़ी का पेड़ काटने लगे …. अमृता विश्नोई एवं उनकी 2 बेटियां उन पेड़ों से चिपक गयी …. मारवाड़ के शाही हलकारो ने अमृता विश्नोई एवं उनकी बेटियों के हाथ काट डाले …. आंदोलन हुआ पेड़ बचाओ …. इस पूरे आंदोलन में 84 गाँवो के 300 से ज्यादा विश्नोईयों ने अपनी जान दी …. बात जब जोधपुर के महाराजा तक पहुंची तो वो खुद अमृता विश्नोई के घर आये एवं माफी मांगी …. पेड़ काटने का शाही आदेश वापस लिया …. खेजड़ी को रेगिस्तान का राजकीय वृक्ष घोषित किया …. विश्नोई समाज खेजड़ी को कलप वृक्ष मानकर पूजा करता है ….The Protectors of Black Buck. Bishnoi communities are well known for the sacrifices they have made to protect nature. Jammeshwarji Maharaj ( Jamboji) launched this sect in 1542 A.D. He was a man of great foresight and preached 29 principles from which the name Bishnoi( Bish-twenty and Noi-nine)

राजीव गांधी ने जोधपुर से सटे मथानिया गांव में कहा था किसानों को जब लाल मिर्च से ज्यादा फायदा है तो हरि मिर्च की खेती क्यों करते हैं ?? …. मथानिया गांव विश्नोईयों का गांव है एवं यहां की लाल मिर्च विश्व प्रसिद्ध है ….

1998 में इसी मथानिया गांव में सलमान खान ने फायरिंग से एक काले हिरण (दुर्लभ चिंकारा) की हत्या कर दी थी …. तुरंत विश्नोई समाज ने सलमान खान का पीछा शुरू किया …. आगे सलमान खान की जीप पीछे विश्नोई समाज की गाड़ियां बाइक्स …. जोधपुर शहर की सड़कों पे आधी रात को सनसनी फैल गयी …. सलमान खान ने उम्मेद भवन प्लेस पहुंच के ही दम लिया …. सलमान की किस्मत अच्छी थी कि वो उस दिन विश्नोईयों के हत्थे नहीं चढा वरना फैसला ऑन द स्पॉट हो जाता .

बिश्नोई समाज का वन्य जीव प्रेम एवं पेड़ पर्यावरण Bishnoi society wildlife love and tree environment



लेकिन वन्य जीव एवं पेड़ पर्यावरण कौम विश्नोई समाज ने हार नहीं मानी …. सलमान के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया …. लोग ज़मीन जायदाद खेत खलिहान मकान के लिए जितनी लम्बी अवधि तक मुकदमा नहीं लड़ते …. उतनी लम्बी अवधि तक एक निरीह मासूम हिरण के लिए विश्नोई समाज ने मुकदमा लड़ा ….

– The Hindu Sect “Bishnoi” That Considers Protecting Trees and Wild Life as a Part of Their Religious Responsibility … He belonged to the higher ranks of the society by being a Khastriya, the second highest at the caste system. However, he made … The Bishnois’ love for animals and trees knows no bounds.

विश्नोई समाज की तरफ से पैरवी अधिवक्ता उम्मेद सिंह भाटी (राजपूत) ने की एवं विश्नोई समाज को न्याय दिलाया ….

सलमान खान आज सलाखों के पीछे है …. हो सकता है सोमवार को जमानत भी हो जाये …. पर विश्नोई समाज सुप्रीम कोर्ट तक।लड़ेगा ….

सलमान खान के चेहरे पे शिकन साफ देखी जा सकती है क्योंकि गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई ने सलमान खान को जान से मारने की धमकी दी है …. हालांकि लॉरेंस खुद अभी भरतपुर जेल में बन्द है किंतु उनके कुख्यात गुर्गे और शूटर जोधपुर सेंट्रल जेल में ही कैद है …. ये सलमान के लिए चिंता का विषय है ….

मारवाड़ (जोधपुर) और बीकानेर स्टेट में लाइन से सैंकड़ों गांव विश्नोई समाज के बसे हुए हैं …. सेना पुलिस एवं अन्य उच्च सरकारी पदों पे विश्नोई समाज के युवा काबिज़ है …. इनका मुख्य कार्य खेती बाड़ी एवं पशुपालन है …. शारीरिक कद काठी से विश्नोई लंबे मजबूत बाहुबली होते हैं …. इनकी और जाटों की गोत्र सम (समान/एक जैसी) होती है …. जाटों से ही अलग हो के विश्नोई पंथ या समाज का निर्माण हुआ ऐसी मान्यता है ….

राजस्थान आने वाले देशी विदेशी सैलानियों को ये ख्याल रखना चाहिए …. हमारी मेहमान-नवाजी विश्व प्रसिद्ध है किंतु आप हमारे यहां आ कर पर्यावरण एवं वन्य जीवों को नुकसान नहीं पहुंचा सकते …. और यदि आपने ऐसा किया और गलती से विश्नोई समाज के हत्थे चढ़ गए तो फैसला ऑन द स्पॉट ही होता है ……………………… धाँय ….The Bishnois are one of the first organized proponents of eco-conservation, wildlife protection, and green living. With their ideals steeped … Since the religion is based on love, peace, respect for life and non-violence, it proponents harmony amongst trees, animals and human beings



Leave a Comment